April 24, 2013

Gazal: मंजिल न दे, चराग न दे: होसला तो दे, TISA का ही सही तू मगर आसरा तो दे. .

Fluency  न दे, cure न दे
होसला तो दे,

TISA का ही सही, तू मगर आसरा तो दे.

बरसों मैं Cure के नाम पर खाता रह फरेब,

TISA blog कहाँ है, तूं उसका पता तो दे.

मैंने ये कब कहा के मेरे हक में हो जुबां ,

लेकिन खामोश मैं क्यों रहूं, कोई ये बता तो दे .

बेशक मेरी speech पर रख अपना इख्तियार,

लेकिन मेरा इसमे गुनाह है क्या,  ये बता तो दे.

Fluency  न दे cure न दे,
Communications skill तो दे...

7 comments:

sachin said...

Wow! Beautiful!

Anonymous said...

Muqarrar, muqarrar..

Kamal said...

"बरसों मैं Cure के नाम पर खाता रहा फरेब"
So true!

Amitsingh Kushwah said...

बहुत सुंदर हेमंत जी। बधाई।

lalit said...

hemant ji ..hum to apke fan ho gaye...i like this gazal very much..but the way u modified is fantastic..next time jba bhi milege u have sing this version of gazal for us..:-)

हेमन्त कुमार "हृदय" said...

lalit ji, thanks. I'll

dr vijay singh said...

बहुत अच्छा दोस्त ,मजा आ गया