March 19, 2012

18 मार्च की दिल्ली S.H.G. मीटिंग


बाएं से दायें अनूप नागरथ, अभिषेक, गोविन्द, सिकंदर, प्रमेन्द्र, सौरव, चन्दन, जितेन्द्र (स्वयं) और जगदीश.



सबसे पहले हम सब ने एक दुसरे को अपना परिचय दिया. उसके बाद अनूप सर ने stammering को नियंत्रित करने के लिए स्लो स्पीड टेक्निक का उपयोग करने का निर्देश दिया, जिसके बाद हम सभी ने दोबारा अपना परिचय स्लो स्पीड टेक्निक का उपयोग करते हुए दिया. उसके बाद अनूप ने cancellation, pre block correction और post block correction पर चर्चा हुई और साथ ही इस बात पर भी चर्चा हुई की stammering अनुवांशिकता से फ़ैल सकती है या नहीं?
उसके बाद सिकंदर, जगदीश और प्रमेन्द्र ने stammering से जुड़े कुछ अनुभव बताये जिसका निष्कर्ष यह था की हकला कर बोलने से किसी को भी कुछ फर्क नहीं पड़ता केवल हम सोचते रहते है की अगर हम हकला बोलेंगे तो लोग क्या सोचेंगे.
जगदीश ने बताया की कॉलेज की कैंटीन में वह पिछले दो साल से सेम चीज खा रहा है क्योंकि वह टाइम प्रेसर के अन्दर किसी अन्य चीज का नाम नहीं बोल पाता. लेकिन अब उसने निश्चय किया है की वह कैंटीन में अपनी मनपसंद चीज ही खायेगा और मुश्किल से भागेगा नहीं उसका सामना करेगा.
प्रमेन्द्र ने बताया की हॉस्पिटल में एक डॉक्टर से बात करते हुए वह एक शब्द पर बहुत देर तक हकलाया लेकिन डॉक्टर ने उस पर जरा भी ध्यान नहीं दिया और न ही कोई कमेन्ट किया. अर्थात हमारे हकलाने से किसी पर कोई फर्क नहीं पड़ता , अतः यह सोचना बेकार है की लोग क्या सोचेंगे.
अंत में हम सब ने एक एक्टिविटी की जिसमे सभी मेम्बर्स को किसी एक टॉपिक पर दो मिनट तक सभी के सामने खड़ा होकर बोलना था, ताकि हमारा आत्मविश्वास बढे और हमें पब्लिक के बीच में कुछ बोलने में दिक्कत न हो.

हमारी यह मीटिंग सफल रही हम सब ने कुछ नया सीखा और एक दुसरे के अनुभव को शेयर किया.
मीटिंग के बाद हमने दोबारा मिलने का वादा करके हम सब अपने अपने घरों की ओर चल दिए.

चूंकि यह मेरा पहला Blog है तो कृपया त्रुटियों के लिए मुझे क्षमा करें|

भवदीय:
जीतेन्द्र गुप्ता

11 comments:

PP...Pramendra said...

बहुत सुन्दर !!
जीतेन्द्र आपने निसंदेह बहुत अच्छी Blog post लिखी है| मुझे आपके लेखन की सरलता भा गयी है| मेरे ख्याल से आपको और लिखना चाहिए| TISA को वैसे भी आप जैसे हिंदी मै Blog लिख सकने योग्य members की बहुत जरुरत है|
धन्यवाद ||

sachin said...

सुन्दर, सराहनीय !
जीतेन्द्र आपका लेखन सन्तुलित व सरल है| इंसी तरह और भी लिखते रहें..
धन्यवाद..

abhishek said...

bahut badhia jitendra..apne meeting ke bare me kaphi acche se describe kiya hai...ye delhi ki best meeting me se ek thi. sunday ki meeting ke facilatator mr. anoop nagrath the aur wo apne point ko bahut hi easy way me as a non stammerer describe kiye. unki ye bat mujhe bahut acchi lagi ki " SLOW BOLTE TIME WORD KE BICH PAUSE PAR DHYAN DE AUR US WAKT YE SOCHE KI KAUN SA WORD HUM BOL SAKTE HAI NA KI AGLA WORD KAISE BOLANGE" THANKS for all member for attend the meeting..

Mohit kumar said...

बहुत ही अछे ढंग से आपने समझाया है जीतेन्द्र जी, हाँ ये सही है की हम हमेशा दुसरो के बारे में सोचते रहते है, हम नज़र चुराना चाहते है.जो की ऐसा करना बिलकुल गलत है, इससे हमारा मनोबल और ज्यादा घटता है.

lalit said...

bahut badiya jitenrda bhai ... :-)

sikander said...

Pyare Jitendra, Sabse pahle mai aap ka shukriya karta hu aap ne delhi group ki meeting ki report hamare blog mai dali. Aap nai bahut accha likha. Hindi hamari matra bhasha hai aur report hindi mai pad kar bahut achchha laga. Is meeting mai maine bhi Anup ji se bahut kuchchh seekha and jis tarah se anup ji nai udaharan de kar hume bataya, hum sab ko samajh mai aa gaya. Thanks Anup. Pramend (Hamare Brave Hero) nai bahut dino ke baad meeting attend ki, usse mil kar hum sab ko bahut achchha laga. Govind(a great artist) and aap ki improvement dekh kar hum bahut khush huye. Isse dusro ko bhi mehnat karne ki prerana mili. Aaj Chandan (New Member) nai meeting attend ki, TISA Delhi SHG ne uska swagat kiya. Saurav and Jagdish mai bhi kaphi improvement dikha. Mai Abhishek ko meeting organize karne ke liye bahut dhanyabad karta hu. Thanks Anoop, Govind, Jitendra, Jagdish, Pramend, Saurav, Chandan and Abhishek for attending the meeting and making it a successsful and imformative meeting.

Aap ka Dost
Sikander

Er. Umesh said...

Great Jitender..Aap kitna accha likhte hai..mere pass tho sabd hi nhi hai..yaha ki logo ne sari tarif phle hi kar di hai..

Anonymous said...

vry gud jitendr.... my name is kamleshwar.and mujhe b stammering ki problem h.kya aap log mujhe bta skte hai ki delhi mai aapki next meeting kab hogi.because mai bhi ye meeting attend krna chata hu.. plz informe me.

my email id is kamalmaurya123@yahoo.in

Anonymous said...

vry gud jitender. my name is kamleshwar maurya.and mujhe bhi stammering ki problem hai.kya aap mujhe bta skte hai ki delhi mai aapki next meeting kab hogi.because mai bhi ye meeting attend krna chata hu.. plz inform me.

my email id is kamalmaurya123@yahoo.in

Anonymous said...

vry gud jitender. my name is kamleshwar maurya.and mujhe bhi stammering ki problem hai.kya aap mujhe bta skte hai ki delhi mai aapki next meeting kab hogi.because mai bhi ye meeting attend krna chata hu.. plz inform me.

my email id is kamalmaurya123@yahoo.in

J P Sunda said...

Jitender, aap aur amit ji to hindi main kamal ka likh rahain hain aur hum sab ko bhi prerit kar rahin hain likhae ke liye! apnae email id mujhe facebook pe message kar do to main apko blog ka author invitation bhej dunga. Asha hai ki aap jald hi koi kitab bhi likhenge hindi main :-)