June 27, 2012

Delhi SHG Report

बाएं से दायें: सौरभ, सिकंदर, प्रमेन्द्र, जितेंदर, अभिषेक और आशीष.

नमस्कार दोस्तों, 

आज की मीटिंग में उपरोक्त 6 लोग शामिल हुए. आज हमने सबसे पहले फोनेसन नामक स्पीच एक्सरसाइज  का अभ्यास किया और साथ ही टेक्निक्स पर चर्चा की.
उसके बाद हमने विभिन्न टेक्निक्स का उपयोग करते हुए. हमने अपने आपको इंट्रोडयूस किया.
हमारी पहली एक्टिविटी नंबर 5 गेम थी, इसमे हम बारी बारी से किसी एक टेक्निक का उपयोग करते हुए गिनती गिनते हैं. इसमे से हमने हार जीत का कॉन्सेप्ट निकाल दिया है. अब आप इस गेम में केवल जीत सकते हैं.

"नदी पर बांध लगाने से वह और चढ़ती है."
 
अर्थात हम अपनी समस्याओं को जितना छुपाने या उससे बचने का प्रयास करते हैं, वह समस्या हमारे लिए उतनी ही बड़ी होने लगती है.
आज की हमारी दूसरी एक्टिविटी भी इसी सोच पर आधारित थी.
आज परिस्थिति बदल चुकी है लेकिन सेकंडरी तक मेरी अटेंडेंस मेरा एक दोस्त बोलता था, और आज भी कॉलेज में कभी कभी अटेंडेस छुट जाती है. 
आमतौर पर हम सभी की यह कॉमन स्टोरी है, लगभग हर स्टेमरर  के के विद्यार्थी जीवन में यह क्षण कभी न कभी ज़रूर आता है.
इसलिए आज हमने  रोल प्लेयिंग एक्टिविटी की जिसमे हम सभी ने बारी बारी से अध्यापक और विद्यार्थी का रोल प्ले किया, और उस स्थिति का सामना करने की कोशिश की जिससे हमलोग आजतक भागते आयें हैं.

हमारा अगला राउण्ड स्पीच देने का था, जिसमे हमें किसी एक टॉपिक पर ५ मिनट तक स्पीच देनी थी. स्पीच देते वक़्त हमारा मुख्या उद्देश्य केवल टेक्निक्स का उपयोग करते हुए बोलना होता है. 
आज हमारी मीटिंग एक नए वेन्यु केंद्रीय सचिवालय पर हुई जहाँ घने पेड़ो के साथ साथ ताज़ी हवा भी भरपूर  मात्रा  में उपलब्ध है, और साथ ही एक ओर राष्ट्रपति भवन है तो दूसरी ओर इंडिया गेट है.
आज की मीटिंग में हमने वाही किया जो हम आमतौर पर करते आयें हैं लेकिन इस बार करने का तरीका अलग था.
मीटिंग का अंत हम सबने मुस्कुराते चेहरों के साथ एक दुसरे से अगली मीटिंग में मिलने का वादा करके किया.

धन्यवाद 
भवदीय
-- 
Jitender Gupta प्रथम 
+91 7503189365
jitenderguptaa "at" gmail.com

7 comments:

Ramesh said...

nice... :-)

J P Sunda said...

Jitender Delhi ke meetings aur report dono hi bahut badiya hoti hain. Meeting ke baad aapsae aur pramendra se mil ke acha laga.

sikander said...

Dear Jitender, the report is well written and great. you have now become a professional correspondent. I really appreciate that. We missed the chance to meet our JP as we had left a bit earlier. I am sure, he will be coming to attend next meeting.

Amitsingh Kushwah said...

जीतेन्दर, बहुत बढ़िया. दिल्ली में आप लोग काफी अच्छा काम कर रहे हैं. और इससे भी सुखद यह है कि आप हिंदी में रिपोर्ट लिखकर टीसा के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं. साधुवाद और बधाई . . . !

sachin said...

Great! Delhi group keeps resurrecting itself every few weeks- like Sphinx!

Pradeep said...

nice work aap sabhi log achha kam kar rahe ho go on
aur
फोनेसन exercise kya hoti hai mene aaj hi isake bare me aaj hi suna hai

Jitender Gupta प्रथम said...

@pradeep,
phonation ek speech exercise hai, isme ham hindi ke kuchh vowels (अ ई ऊ ए ओ etc.) ko 15-20 seconds tak prolong karate hai.
Jaise: अअअअअ. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
ईईईईई. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . Etc.