June 19, 2012

Delhi SHG Report 17/06/2012

बाएं से दायें : जितेंदर, आशीष, प्रभात, संचित, सिकंदर, अनुज और बलवीर.

नमस्कार दोस्तों,
आज की मीटिंग की शुरुआत हमेशा की तरह परिचय से हुई, लेकिन अब परिचय का उद्देश्य बदल चुका अब हम परिचय का राउंड परिचित होने के लिए नहीं बल्कि एक एक्टिविटी के तौर पर करते हैं तथा परिचय के वक़्त भी हम अपने अनुकूल टेक्निक का उपयोग करते हैं.
आज TISA Delhi SHG ने एक नए मेम्बर संचित गुप्ता का स्वागत किया जो की पहले से ही ऑनलाइन मीटिंग्स अटेंड कर रहे हैं.
परिचय के बाद हम सभी ने एक बार बाउंसिंग, प्रोलोंगेसन, पौजिंग तथा मिरर टेक्निक पर चर्चा की.
उसके बाद हमने फोनेसन नामक स्पीच एक्सरसाइज  का अभ्यास किया तथा LER (Loud, Eye contact, Rate of speech) को फॉलो करते हुए हम सबने कुछ एक्टिविटीज परफोर्म की जिसका उद्देश्य हमारी स्पीच के साथ साथ हमारी लिसनिंग स्किल्स को भी बढ़ाना था.
हमने इस ३ घंटे की मीटिंग का अंत हमने उमेश रावत से फ़ोन पर बात कर के किया.
आज की मीटिंग भी हमारी पिछली मीटिंग्स  की तरह एक सक्सेसफुल मीटिंग थी जिसमे हम सब को कुछ नया सीखने को मिला.
इस मीटिंग में नए चेहरों के साथ साथ ईद का चाँद हो चुके कुछ पुराने चहरे (अनुज और बलबीर) भी देखने को मिले जिनसे मिलकर हमें ख़ुशी हुई.
हम सभी ने TISA Delhi SHG के उन सभी मेम्बर को याद किया जो किसी कारणवश आज नहीं आ पाए.

(मेरा सभी TISA friend से निवेदन है की जब भी हमारा कोई साथी हकलाकर बोल रहा हो तो वह उसे बीच में रोककर सलाह देने से बचे. बल्कि वह जैसे भी बोले उसे बोलने दे. मेरे अनुसार इस दौरान हमें किसी की भी बात अच्छी नहीं लगती क्योंकि बचपन से ही हम हकलाने के दौरान सभी की चाहे वह हमसे बड़ा हो या छोटा हो सलाह सुनते आ रहे हैं.  जब बात ख़त्म हो जाये तब आप उसे अपने बहुमूल्य कमेन्ट दे सकते हैं. जिससे उसे अपने आपको सुधारने में मदद मिलेगी. लेकिन इस दौरान भी हमें अपने सिनिअर (ex-pws)
की बात अवश्य सुननी और मनानी चाहिए.)

धन्यवाद

भवदीय
जितेंदर गुप्ता प्रथम
+917503189365
mail: jitenderguptaa at gmail.com

8 comments:

sachin said...

Thanks Jitendra, for a comprehensive report! Yes- it is important that we dont interrupt people when they are talking.. This is rule number one of any SHG, trying to help pws. Second- advice should be given ONLY when specifically and expressly asked for. Thirdly, we can advice only about a technique which we have CONSISTENTLY used ourselves for quite some time.
Lastly- the greatest service we can give to another pws is to LISTEN to him calmly and with an open mind. No advice can work as many wonders as this. So, listen carefully to each other, with a genuine interest and open-ness.. That is the greatest charity, kindness and service in this context.
Keep meeting friends..

Er. Umesh said...

Nice report Jitendera..It was really a nice experience to talk with all members via conference call. Keep going Delhi shg!!

lalit said...

nice jitendra ......ab to tum establish writer ban gaye ho.....

sikander said...

Well done Jitendra! As usual your report is great. This time, we did old activities in different way, that was amazing specially the number 5 game. Talking to Umesh via conference call was a great experience for us. Thanks Umesh for sharing the Bouncing technique with all of us. Thanks everyone for making it a successful meeting.

Amitsingh Kushwah said...

सुन्दर रिपोर्ट के लिए बधाई. आपके हिंदी में लिखने से मुझे बहुत खुशी होती है कि अब हिंदी में भी हकलाहट के बारे में हम काफी कुछ अच्छा लिख पा रहे हैं.

Dinesh said...

Very good report Jitender.
Especially the last point, you have explained very well.

Dinesh said...

Very good report Jitender.
Especially the last point, you have explained very well.

Jitender Gupta प्रथम said...

Thanx a lot for encouraging me.